धर्मयुद्ध

बहत जी लिए हम सराफत की जिंदगी
अब दहाड़ ना बाकी है|


दिल से श्री राम को पूजते हैं
अब परशुराम होना बाकी है।


ए जमाना तू ना समझ की
हिंदू अब सोया है|

Advertisements


ये धरती पुत्र जाग चुका है
हिसाब लेना बाकी है।


भाई भाई कहकर तूने
अच्छा रिश्ता निभाया है|


तूने भाईचारा तो देखलिया
अब धर्मयुद्ध देखना बाकी है।

The following two tabs change content below.
Sumit kumar

Sumit kumar

Rastrabadi Samrat Sri Sumit Kumar: is a patriotic Poet who has composed hundreds of poems on Bharat Mata. Apart from that, he works on social issues, help people. Jai shree Ram
Sumit kumar

Latest posts by Sumit kumar (see all)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Please share the content If you like it.